Categories: ग़ज़लें

Tanhayi Shayari, Ghazal in Hindi

Published by

हाथों की लक़ीरों ने क्या खेल दिखाया,
जिनसे न मोहब्बत थी हमें उनसे मिलाया।

हाथों में नहीं दम पांवों भी थके हैं, 
क्यूँ हमनवा मेरा मेरे सामने आया।

उन शोख हसीनों से ज़रा जाकर कोई पूछे,
तन्हाई में अपनी न कभी उनको बुलाया।

उसने मुझे देखा था यूँ शोख निगाहों से,
जैसे किसी साकी ने मुझे जाम पिलया।

 

अमिताभ

Manager software engineer in MNC.

Leave a Comment

View Comments

Recent Posts

Rahat Indori Biography in Hindi | राहत इंदौरी जीवन परिचय

राहत का जन्म इंदौर में 1 जनवरी 1950 में कपड़ा मिल के कर्मचारी रफ्तुल्लाह कुरैशी… Read More

3 months ago

जो खानदानी रईस हैं वो मिजाज रखते हैं नर्म अपना / शबीना अदीब

ख़ामोश लब हैं झुकी हैं पलकें, दिलों में उल्फ़त नई-नई है,अभी तक़ल्लुफ़ है गुफ़्तगू में,… Read More

9 months ago

वक़्त शायरी | समय शायरी | Waqt Shayari in Hindi – Part 2

वक़्त शायरी | समय शायरी | Waqt Shayari in Hindi - Part 2 (26 से… Read More

12 months ago

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई …

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई जैसे एहसान उतारता है कोई आईना देखकर तसल्ली हुई… Read More

12 months ago

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची – राहत इन्दोरी

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची ज़ुल्फ़ कन्धे से जो सरकी तो कमर… Read More

12 months ago

वक़्त शायरी | समय शायरी | Waqt Shayari in Hindi – Part 1

वक़्त शायरी | समय शायरी | Waqt Shayari in Hindi - Part 1 (1 से… Read More

12 months ago