Categories: ग़ज़लें

जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती… Munawwar Rana Ghazal

जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है,
माँ दुआ करती हुई ख़्वाब में आ जाती है,

रोज़ मैं अपने लहू से उसे ख़त लिखता हूँ,

रोज़ उंगली मेरी तेज़ाब में आ जाती है,

दिल की गलियों से तेरी याद निकलती ही नहीं,
सोहनी फिर इसी पंजाब में आ जाती है,

रात भर जागते रहने का सिला है शायद,
तेरी तस्वीर-सी महताब में आ जाती है,

एक कमरे में बसर करता है सारा कुनबा,
सारी दुनिया दिले- बेताब में आ जाती है,

ज़िन्दगी तू भी भिखारिन की रिदा ओढ़े हुए,
कूचा – ए – रेशमो -किमख़्वाब में आ जाती है,

दुख किसी का हो छलक उठती हैं मेरी आँखें,
सारी मिट्टी मिरे तालाब में आ जाती है.

-मुनव्वर राना

शब्दार्थ:
महताब : चांद,
रिदा: चादर

Leave a Comment

View Comments

Recent Posts

Rahat Indori Biography in Hindi | राहत इंदौरी जीवन परिचय

राहत का जन्म इंदौर में 1 जनवरी 1950 में कपड़ा मिल के कर्मचारी रफ्तुल्लाह कुरैशी… Read More

3 months ago

जो खानदानी रईस हैं वो मिजाज रखते हैं नर्म अपना / शबीना अदीब

ख़ामोश लब हैं झुकी हैं पलकें, दिलों में उल्फ़त नई-नई है,अभी तक़ल्लुफ़ है गुफ़्तगू में,… Read More

9 months ago

वक़्त शायरी | समय शायरी | Waqt Shayari in Hindi – Part 2

वक़्त शायरी | समय शायरी | Waqt Shayari in Hindi - Part 2 (26 से… Read More

12 months ago

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई …

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई जैसे एहसान उतारता है कोई आईना देखकर तसल्ली हुई… Read More

12 months ago

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची – राहत इन्दोरी

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची ज़ुल्फ़ कन्धे से जो सरकी तो कमर… Read More

12 months ago

वक़्त शायरी | समय शायरी | Waqt Shayari in Hindi – Part 1

वक़्त शायरी | समय शायरी | Waqt Shayari in Hindi - Part 1 (1 से… Read More

12 months ago