Categories: ग़ज़लें

आज मुद्दत बाद महफिल में…

आज मुद्दत बाद महफिल में शिरकत किया है कोई,
कि इस नाचीज पे रेहमत किया है कोई।

आज इतना खूबसूरत क्यों लगता है ताज, 
रात भर जागकर मेहनत किया है कोई।

उनका खिला सा बदन कितना रुमानी है अभी,
कितनी शिद्दत से हिफाजत किया है कोई।

कितने अजीज ख्वाब देखे थे जिन्दगी के हमने,
मुझसे जुदा करके उनको रुखसत किया है कोई।

दर-दर पर पूँछा होगा मुझ बदनसीब का हाल,
मैं अब न आऊंगा ऐसी नेमत दिया है कोई।

तुम खुश रहो, रहो आबाद तुम ‘अयुज’,
हर दर पर सजदे में जियारत किया है कोई।

– अमरेश गौतम ’अयुज’

 

अमरेश गौतम

कवि /पात्रोपाधि अभियन्ता

Leave a Comment

Recent Posts

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई …

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई जैसे एहसान उतारता है कोई आईना देखकर तसल्ली हुई… Read More

2 months ago

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची – राहत इन्दोरी

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची ज़ुल्फ़ कन्धे से जो सरकी तो कमर… Read More

2 months ago

नोटबंदी/अमरेश गौतम

जमा पूरी रकम को, कालाधन न कहो साहब, गरीबों के एक-एक रुपये का,उसी में हिसाब… Read More

5 years ago

नोटबंदी/ अमरेश गौतम

गड्डी महलों की या न निकली, अपने बटुए से नोट पुराने चले गए। सुबह शाम… Read More

5 years ago