Categories: ग़ज़लें

अपना ही शहर आज मुझे बेगाना क्यूँ लगा

Published by

अपना ही शहर आज मुझे बेगाना क्यूँ लगा
मेरी ग़रीबी की हक़ीक़त अफ़साना क्यूँ लगा

प्यार सदा से था इसमें दिल ही ऐसा पाया है 
वो जो मेरा दिलबर था अंजाना क्यूँ लगा

मैने तो रखा नहीं कभी मैल मन में अपने
दुनियाँ से इतना फिर मुझे हर्जाना क्यूँ लगा

सहता घुटता रोता रहता तो खुश थे तुम बहुत
माँगा जो आज हक़ अपना वहशियाना क्यूँ लगा

नीलाम हुई इंसानियत नेताओं का खेल हुआ
उसने खाया न ख़ौफ़-ए-खुदा दीवाना क्यूँ लगा

नाज़ था हूमें कितना माना था उसे रहनुमा
अपनों का भी साथ आज बचकाना क्यूँ लगा

यूँ उड़ाकर अफवाहें बिक गया है किस के हाथ
तेरे ज़मीर का बंदे ये बयाना क्यूँ लगा

सुरेश सांगवान’सरु

Leave a Comment

Recent Posts

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई …

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई जैसे एहसान उतारता है कोई आईना देखकर तसल्ली हुई… Read More

2 months ago

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची – राहत इन्दोरी

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची ज़ुल्फ़ कन्धे से जो सरकी तो कमर… Read More

2 months ago

नोटबंदी/अमरेश गौतम

जमा पूरी रकम को, कालाधन न कहो साहब, गरीबों के एक-एक रुपये का,उसी में हिसाब… Read More

5 years ago

नोटबंदी/ अमरेश गौतम

गड्डी महलों की या न निकली, अपने बटुए से नोट पुराने चले गए। सुबह शाम… Read More

5 years ago