Asar Kyun Jaate…. Saru

Published by

रंग  बहारों  के  उतर  क्यूँ जाते
ख़ुश्बू  के  तेरी  असर क्यूँ जाते

शाख-ए-मोहब्बत जो रहती हरी 
पत्तों की तरहा बिखर क्यूँ जाते

गर होते आज भी साथ मिरे तुम
खुशियों के लम्हे गुज़र क्यूँ जाते

लग  जाता अगर यहीं कारख़ाना
छोड़ अपना गांव शहर क्यूँ जाते

क़ाबू  में रखते ज़ुबाँ गर अपनी
नज़रों से उनकी उतर क्यूँ जाते

होता  गर  इरादा -ए- दगाबाज़ी
लूटा के चमन को मगर क्यूँ जाते

इंतज़ार तेरा ‘सरु’ गर न  होता
इस मोड़ पे हम ठहर क्यूँ जाते

Leave a Comment

Recent Posts

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई …

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई जैसे एहसान उतारता है कोई आईना देखकर तसल्ली हुई… Read More

2 months ago

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची – राहत इन्दोरी

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची ज़ुल्फ़ कन्धे से जो सरकी तो कमर… Read More

2 months ago

नोटबंदी/अमरेश गौतम

जमा पूरी रकम को, कालाधन न कहो साहब, गरीबों के एक-एक रुपये का,उसी में हिसाब… Read More

5 years ago

नोटबंदी/ अमरेश गौतम

गड्डी महलों की या न निकली, अपने बटुए से नोट पुराने चले गए। सुबह शाम… Read More

5 years ago