दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई …

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

आईना देखकर तसल्ली हुई
हमको इस घर में जानता है कोई

पक गया है शजर पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

(तुम्हारे ग़म की डली उठाकर जुबां पे रख ली है देखो मैंने
ये कतरा कतरा पिघल रही है मैं कतरा कतरा ही जी रहा हूँ )

देर से गूँजते हैं सन्नाटे
जैसे हमको पुकारता है कोई.

-गुलज़ार
शजर : पेड़, tree

गीतकार : गुलज़ार,
गायक : जगजीत सिंग,
संगीतकार : जगजित सिंग,
गीत संग्रह/चित्रपट : मरासिम (१९९९)

गुलज़ार साहब

Sampooran Singh Kalra (born 18 August 1934), known professionally as Gulzar or Gulzar Saheb , is an Indian lyricist, poet, author, screenwriter, and film director.

Leave a Comment

Recent Posts

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची – राहत इन्दोरी

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची ज़ुल्फ़ कन्धे से जो सरकी तो कमर… Read More

3 weeks ago

नोटबंदी/अमरेश गौतम

जमा पूरी रकम को, कालाधन न कहो साहब, गरीबों के एक-एक रुपये का,उसी में हिसाब… Read More

5 years ago

नोटबंदी/ अमरेश गौतम

गड्डी महलों की या न निकली, अपने बटुए से नोट पुराने चले गए। सुबह शाम… Read More

5 years ago

नोटबंदी

रहा फैसला निकहा दादू, होइ गइ चूक समीक्षा मा। बिन तइयारी बइठी गये हों (more…) Read More

5 years ago