Categories: ग़ज़लें

इक ज़रा सी ज़िंदगी में

Published by

इक ज़रा सी ज़िंदगी में इम्त्तिहां कितने हुये
बोलने वाले न जाने बेज़ुबाँ कितने हुये

ध्रुव तारा ज़िंदगी का कौन होता है कहीं 
इस ज़हन के उफ़ुक़ दिल के आसमाँ कितने हुये

गिरह खुलती है फसानों की वक़्त के साथ ही
बेवजह आगाज़ में हम राज़दाँ कितने हुये

वो बसेरे ढूंढता है दिल मेरा दिन रात में
दिल सुकूं पाए जहाँ वो आशियाँ कितने हुये

ठेकियाँ हमने लगाई याद की तेरी सदा
भाग के तुमको पकड़ लूं अरमां कितने हुये

मुहब्बत का दर खुले है क्यूँ अज़ाबों की तरफ
आँख में बैठे हुये ख़्वाब परिशां कितने हुये

बरत कर ही समझते हैं लोग लोगों को यहाँ
रंग तस्वीरों के लफ़्ज़ों में बयां कितने हुये

–सुरेश सांगवान’सरु’

Leave a Comment

Recent Posts

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई …

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई जैसे एहसान उतारता है कोई आईना देखकर तसल्ली हुई… Read More

2 weeks ago

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची – राहत इन्दोरी

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची ज़ुल्फ़ कन्धे से जो सरकी तो कमर… Read More

3 weeks ago

नोटबंदी/अमरेश गौतम

जमा पूरी रकम को, कालाधन न कहो साहब, गरीबों के एक-एक रुपये का,उसी में हिसाब… Read More

5 years ago

नोटबंदी/ अमरेश गौतम

गड्डी महलों की या न निकली, अपने बटुए से नोट पुराने चले गए। सुबह शाम… Read More

5 years ago