कानून की कोई दफ़ा मोहब्बत…

Published by

कानून की कोई दफ़ा मोहब्बत पे भी लगाई जाये,
कड़ी से कड़ी कोई सज़ा मोहब्बत को भी सुनाई जाये,
ईश्क का फ़रेब से इसका रिश्ता बहुत गहरा है,
बस यही इक बात आज अदालत को भी बताई जाये।
अन्ज़ान

Atul Azamgarhi

Law Student Lucknow university

Leave a Comment

Recent Posts

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई …

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई जैसे एहसान उतारता है कोई आईना देखकर तसल्ली हुई… Read More

2 months ago

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची – राहत इन्दोरी

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची ज़ुल्फ़ कन्धे से जो सरकी तो कमर… Read More

2 months ago

नोटबंदी/अमरेश गौतम

जमा पूरी रकम को, कालाधन न कहो साहब, गरीबों के एक-एक रुपये का,उसी में हिसाब… Read More

5 years ago

नोटबंदी/ अमरेश गौतम

गड्डी महलों की या न निकली, अपने बटुए से नोट पुराने चले गए। सुबह शाम… Read More

5 years ago