Categories: ग़ज़लें

मिल के जाना तेरा/अमरेश गौतम’अयुज’

झुकी हुई नजरों से,मुस्कुराना तेरा,
बहुत याद आ रहा, मिल के जाना तेरा।

वो नजाकत औ शरारत, कि अब तक याद है, 
घुटनों पर ढ़ुड्डी रखकर, इतराना तेरा।

उदासियों का अब,नामो-निशान नहीं है,
दिल में बसा है,बच्चों सा,खिलखिलाना तेरा।

नजरों से कनखियाँ, चलाना वो दूर से,
सूनेपन में, जिन्दगी का,है नजराना तेरा।

अब भी उस गली में, जाता हूँ कभी-कभी,
जिस गली से कभी, था आना जाना तेरा।

बदला जो भी जिक्र, तुम्हारा मेरे हुजूर,
‘अयुज’ तो अब भी है दीवाना तेरा।

अमरेश गौतम

कवि /पात्रोपाधि अभियन्ता

Leave a Comment

Recent Posts

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई …

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई जैसे एहसान उतारता है कोई आईना देखकर तसल्ली हुई… Read More

2 months ago

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची – राहत इन्दोरी

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची ज़ुल्फ़ कन्धे से जो सरकी तो कमर… Read More

2 months ago

नोटबंदी/अमरेश गौतम

जमा पूरी रकम को, कालाधन न कहो साहब, गरीबों के एक-एक रुपये का,उसी में हिसाब… Read More

5 years ago

नोटबंदी/ अमरेश गौतम

गड्डी महलों की या न निकली, अपने बटुए से नोट पुराने चले गए। सुबह शाम… Read More

5 years ago