Categories: Song Lyricsगीत

याचना नहीं अब….

“याचना नहीं अब………”

याद आ रही मुझको फिर
दिनकर की बात पुरानी वो। 
फिर दुहराई जाएगी
बीती हुई कहानी वो।

हर बार दोस्ती के वादे पर
खंज़र की मार सही हमने।
बार-बार हर बार यूँ ही
पितामह सी बात कही हमने।

शर्म नहीं है उसको जब
ऐसी काली करतूतों पर।
कुछ ऐसा क्यों न किया जाय
ये नाक रगड़ दें जूतों पर।

अगर नीतियाँ नहीं प्रबल
उनका शीश झुकाने को।
आदेश थमाँ दो वीरों को
काट शीश ले आने को।

अमरेश गौतम

कवि /पात्रोपाधि अभियन्ता

Leave a Comment

Recent Posts

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई …

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई जैसे एहसान उतारता है कोई आईना देखकर तसल्ली हुई… Read More

2 months ago

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची – राहत इन्दोरी

तीरगी चांद के ज़ीने से सहर तक पहुँची ज़ुल्फ़ कन्धे से जो सरकी तो कमर… Read More

2 months ago

नोटबंदी/अमरेश गौतम

जमा पूरी रकम को, कालाधन न कहो साहब, गरीबों के एक-एक रुपये का,उसी में हिसाब… Read More

5 years ago

नोटबंदी/ अमरेश गौतम

गड्डी महलों की या न निकली, अपने बटुए से नोट पुराने चले गए। सुबह शाम… Read More

5 years ago